पुलुपुलु गेरा – दुर्गालाल

(सफु – चिनियाम्ह किसिचा) 

पुलुपुलु गेरा 
क्वां क्वां वा 
ख:थें मखुथें मिखाफ़ुति याय्थें 

ख्यूँथाय् पुलुपुलु 
मत क्यों वा 
सुर्द्यो ल्वीतिनि सुथ नं ज्वीतिनि 

ख्यूँ सां ग्याय्म्वा:
छं धा: वा 
खिमिलां कुंका: मिखा हे तंका 

ख्वैच्वंपिनि छं 
मन त: वा 
पुलुपुलु गेरा 
क्वां क्वां वा

No Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *